some acQua!nTance never D!es

TH!s !s DeD!caTeD To mY FaTHer wHom ! Love mosT !n TH!s worLD...


वो चले गये है वहां
जहाँ से वापस आते नहीं
मगर गम बस इतना है
कि हम भुला पाते नहीं

मुस्कराहट तो जान है अपनी
जानती सब है कहती कुछ नहीं
इन आँखों ने देखा है सब कुछ
मगर मोती ये छलकते नहीं

इन कदमों का लड़खडाना
वो सहारा गिरने देता था नहीं
आज कदम सही पड़ते है
मगर हम संभल पाते नहीं

बहुत गहरे है ये जख्म
जिनके काबिल हम नहीं
कहना बहुत कुछ है खुदा से
मगर हम कुछ कह पाते नहीं

वो दिन रात छाया में जिनकी
गम कि धूप कभी आयी नहीं
आज गम नहीं, गम कि धूप नहीं
मगर चैन की नींद आयी नहीं

वो है कही आस पास
देख जिन्हें मै पाता नहीं
याद हो, याद रहोगे हर पल
भूलना मुझको है आता नहीं

वो तो करते होंगे याद हमें
मुझे सब कहते है याद करना नहीं
शिकायत तो नहीं है कोई मुझे
मगर यूँ छोड़ कर जाते नहीं

खुदा को प्यार था बन्दे से
मगर इतनी जल्दी बुलाते नहीं
हमको नहीं थी इतनी समझ
वरना प्यार खुदा से कम हम करते नहीं

1 comments:

neelu said...

very nice lines......this shows ur real image ...

Post a Comment